इनकम टैक्‍स के नोटिस की न करें अनदेखी, पेनल्टी के साथ हो सकती है सजा

No comments
केन्द्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) ने 14 मई को एक सर्कुलर जारी कर कहा था कि प्रत्येक आयकर दाता को विभाग की ओर से मिले नोटिस का जवाब देना जरूरी होगा। जवाब नहीं देने की सूरत में आयकर दाता पर पेनल्टी ठोंकी जा सकती है। ऐसे में आपके पास अगर आयकर विभाग से अधिक टैक्‍स जमा करने के लिए कोई मेल या एसएमएस मिलता है तो आप क्‍या करें, हम यहां पर आपको बता रहे हैं कि आप कैसे जवाब दें और फिर आगे क्‍या करें।
कब और क्‍यों आता है नोटिस
आयकर रिटर्न भरते समय आयकर दाता को अपने से जुड़ी जानकारियां देनी होती हैं। कई दफा होता है कि आयकर दाता द्वारा भरे हुए रिटर्न की रकम और आयकर विभाग द्वारा बताई गई रकम में अंतर होता है। ऐसे में आयकर विभाग आयकर दाता को मेल या एसएमएस के जरिए सूचित या नोटिस भेजता है।
आयकर दाता अपने से जुड़ी जानकारी, जैसे टैक्‍स असेसमेंट, टैक्‍स डिडक्शन का स्रोत,टैक्‍स डिडक्शन अकाउंट नंबर, टाइपिंग गलती होने पर इनकम टैक्‍स की धारा 154 के तहत सुधार कराने के लिए आयकर विभाग को सूचना दे सकते हैं और सुधार करा सकता है।
आयकर विभाग से मिले ईमेल या एसएमएस में किसी भी प्रकार की विसंगति की सूचना मिलने पर 30 दिनों के अंदर जवाब देना चाहिए। आयकर दाता अपने जवाब में विभाग द्वारा भेजे गए नोटिस से सहमति या असहमति की जानकारी दे सकता है। अगर, आयकर दाता नोटिस का जवाब नहीं देता है तो आयकर विभाग उसके ऊपर पेनल्टी या दंडात्मक कार्रवाई कर सकता है।

कैसे करें रिस्‍पांड
अगर, आपके पास आयकर विभाग द्वारा रिटर्न फाइल करने में हुए बेमेल को लेकर मेल या एसएमएस आता है तो आप अपने अकाउंट को www.incometaxindia.gov.in, पर जाकर एक्सेस कर सकते हैं। जब आप लॉगइन करते हैं तो आपको रिफंड और डिमांड स्‍टेटस दिखाई देता है। इसके अलावा आप लॉगइन करने के बाद माई पेंडिंग एक्‍शन टैब जो डैश-बोर्ड पर होता है, उस पर क्लिक कर बकाया रकम या डिमांड के विषय में जानकारी ले सकते हैं। इसके बाद रिस्पांस आउटस्टैंडिंग टैक्‍स डिमांड बटन पर जाकर क्लिक करें। इसमें आयकर का एसेसमेंट साल का चयन करें और फिर समिट करें।
इसके बाद आपके पास तीन ऑप्शन मिलेंगे कि क्‍या आप आयकर विभाग द्वारा किए गए डिमांड से सहमत हैं, आंशिक रूप से सहमत हैं या असहमत हैं। अगर, आपको लगता है कि आयकर विभाग द्वारा जो डिमांड जेनरेट किया गया है, वह सही है तो डिमांड करेक्ट बटन पर क्लिक करें। अगर, कुछ डिमांड आप पर बकाया है तो उसे जल्द से जल्द भुगतान कर दें।
दूसरे ऑप्शन में आपको लगता है कि आयकर विभाग द्वारा बकाया राशि की डिमांड से आंशिक रूप से सहमत हैं तो आप सही रकम भर सकते हैं और आयकर द्वारा मांगी रकम क्‍यों गलत है, इसका विवरण दे सकते हैं।

अगर, आप आयकर विभाग से मिली डिमांड से पूरी तरह से असहमत हैं तो आपको एक से अधिक रीजन देने होंगे। इसमें आप बता सकते हैं कि जो रकम मांगी जा रही है, वह पहले ही जमा की जा चुकी है या संशोधित रिटर्न फाइल किया जा चुका है। आपके द्वारा जवाब समिट करने के साथ ही एक ट्रांजेक्शन आईडी जेनरेट होगा। आप रिस्पांस कॉलम में जाकर आपने क्‍या जवाब भरा है उसको भी क्लिक कर देख सकते हैं।

For More Info or to File Your Income Tax Returns Simply Call Us at 

         9313368533

No comments :

Post a Comment